Dr. Yajuvendra Gawai talks about Sports Injuries: Types, Treatment, Prevention and more…


नमस्ते दोस्तों में हूँ डॉ. यजुवेंद्र गवई में एक ऑर्थोपैडिक सर्जन और स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट हूँ मेरी स्पेशलिटी है अर्थरोस्कोपिक सर्जरी और शोल्डर एंड नी सर्जरी आज हम बात करेंगे स्पोर्ट्स इंजूरिस के बारे में कोई चोट जो खेल खेलते वक़्त या प्रशिक्षण लेते वक़्त लगे उसे स्पोर्ट्स इंजुरिस कहा जा सकता हैं अब ये सवाल है की स्पोर्ट्स या खेल हैं क्या? हम सभी जानते है सबसे लोकप्रिय खेल जैसे क्रिकेट, फुटबॉल, बॅडमिंटन,बास्केटबॉल पर इसके आलावा भी कुछ क्रियाएँ हैं जिनसे आपको स्पोर्ट्स इंजुरिस हो सकती हैं जैसे डांस, प्रशिक्षण, फिटनेस स्पोर्ट्स इंजुरिस दो प्रकार के होते हैं एक्यूट इंजुरिस और क्रोनिक इंजुरिस एक्यूट इंजुरिस उसे कहते हैं जब आप खेल खेल रहे होते हो और गिर जाते हो या हड्ड़ी टूट जाती है या फ्रैक्चर हो जाता हैं या हड्ड़ी का विस्थापन हिल जाता है या स्त्रायु को चोट आ सकती है यह सारी एक्यूट इंजुरिस जो अचानक हो सकती है जिसके कारन विक्लांगता आ सकती है क्रोनिक इंजुरिस में व्यायामी को, या कोई भी जो रोज़ खेल खेलता हैं घुटनों में, पेड़ू-जांघ जोड़ में, घुटने के पीछे की नस में गंभीर व्यथा हो सकती है जब स्पोर्ट्स इंजुरिस होती है तब क्या करना चाहिए? प्राथमिक चिकित्सा RICE में संक्षेप कर सकते हैं प्राथमिक चिकित्सा RICE में संक्षेप कर सकते हैं RICE याने विश्राम, आइस, दबाव और उठान RICE याने विश्राम, आइस, दबाव और उठान विश्राम निर्भर करता हैं आपकी चोट की गंभीरता पर विश्राम निर्भर करता हैं आपकी चोट की गंभीरता पर गंभीर चोटों के लिए संपूर्ण शय्या विश्राम करें गंभीर चोटों के लिए संपूर्ण शय्या विश्राम करें हलकी चोटें हैं तो कुछ समय तक खेल या कसरत न करें हलकी चोटें हैं तो कुछ समय तक खेल या कसरत न करें हलकी चोटें हैं तो कुछ समय तक खेल या कसरत न करें चोट पर आइस (बर्फ़) लगाए 10-15 मिनटों क लिए चोट पर आइस (बर्फ़) लगाए 10-15 मिनटों क लिए चोट पर आइस (बर्फ़) लगाए 10-15 मिनटों क लिए हर 3 से 4 घंटों की अवधी में बर्फ़ लगाते वक़्त बुजुर्ग मरीज़ का ख़ास ध्यान रखें क्यूँकि उनकी त्वचा शीघ्रग्राही होती हैं बर्फ़ लगाते वक़्त बुजुर्ग मरीज़ का ख़ास ध्यान रखें क्यूँकि उनकी त्वचा शीघ्रग्राही होती हैं बर्फ़ लगाते वक़्त बुजुर्ग मरीज़ का ख़ास ध्यान रखें क्यूँकि उनकी त्वचा शीघ्रग्राही होती हैं बर्फ़ लगाते वक़्त बुजुर्ग मरीज़ का ख़ास ध्यान रखें क्यूँकि उनकी त्वचा शीघ्रग्राही होती हैं बर्फ़ लगाते वक़्त बुजुर्ग मरीज़ का ख़ास ध्यान रखें क्यूँकि उनकी त्वचा शीघ्रग्राही होती हैं दबाव के लिए आप प्रत्यास्थ पट्टी का उपयोग करें और चोट पर उसे लपेटे दबाव के लिए आप प्रत्यास्थ पट्टी का उपयोग करें और चोट पर उसे लपेटे उठान के लिए आप अपनी चोट के हिस्से को कम से कम अपने दिल के समानता या उससे ऊपर उठायें उठान के लिए आप अपनी चोट के हिस्से को कम से कम अपने दिल के समानता या उससे ऊपर उठायें उठान के लिए आप अपनी चोट के हिस्से को कम से कम अपने दिल के समानता या उससे ऊपर उठायें अगर चोट अध:शाखा में हैं तो अपने घुटने के समानता तक अपनी चोट को उठायें अगर चोट अध:शाखा में हैं तो अपने घुटने के समानता तक अपनी चोट को उठायें अगर चोट ऊर्ध्व शाखा में हैं तो गुलेल का उपयोग करें अगर चोट ऊर्ध्व शाखा में हैं तो गुलेल का उपयोग करें अगर चोट ऊर्ध्व शाखा में हैं तो गुलेल का उपयोग करें स्पोर्ट्स इंजुरिस में कुछ बातों का ख़ास ध्यान रखें ये दर्शाएंगे कब आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए ये दर्शाएंगे कब आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए 1. अगर आप अपनी चोट पर बोज नहीं दाल पा रहें 1. अगर आप अपनी चोट पर बोज नहीं दाल पा रहें 2. अगर आपकी चोट पर भारी सूजन आ गयी हैं 2. अगर आपकी चोट पर भारी सूजन आ गयी हैं ये कुछ लक्षण हैं जो दर्शाते हैं आपको डॉक्टर से मिल लेना चाहिए RICE थेरेपी के बावजूद आपकी चोट ठीक न हो तो अपने नजदीकी स्पोर्ट्स मेडिसिन डॉक्टर की सलाह लें RICE थेरेपी के बावजूद आपकी चोट ठीक न हो तो अपने नजदीकी स्पोर्ट्स मेडिसिन डॉक्टर की सलाह लें RICE थेरेपी के बावजूद आपकी चोट ठीक न हो तो अपने नजदीकी स्पोर्ट्स मेडिसिन डॉक्टर की सलाह लें स्पोर्ट्स इंजुरिस का बचाव करने क लिए इन बातों का ख़ास ख्याल रखें स्पोर्ट्स इंजुरिस को रोका नहीं जा सकता चोटें खेल का ही हिस्सा हैं पर अगर आप सावधानी बरतें तो आप चोट लगने की संभावना कम कर सकते हैं पर अगर आप सावधानी बरतें तो आप चोट लगने की संभावना कम कर सकते हैं खेल खेलते वक्त्त आप सुरक्षात्मक गियर का उपयोग करें खेल खेलते वक्त्त आप सुरक्षात्मक गियर का उपयोग करें खेल खेलते वक्त्त अच्छे जूतों का उपयोग करें अपने जूतें हर 6 महीनों में बदले वही जूतें पेहेन्ने से फंगल इन्फेक्शन्स का खतरा बढ़ सकता हैं खेलते वक़्त अपने फॉर्म या पोस्चर का ख़ास ख़याल रखें खेलते वक़्त अपने फॉर्म या पोस्चर का ख़ास ख़याल रखें ओवर-ट्रेनिंग मत किजिए अधिक जानकारी हमे कॉल करे- 9322874474

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *